Friday, 6 July 2012

औरतों की जन्नत : औरतें वहाँ रोटियाँ नहीं पकातीं

माला जी जोर्डन गईं तो यह देखकर दंग रह गईं कि वहाँ औरतें रोटियाँ नहीं पकातीं. उन्होंने कान्ति मासिक पत्रिका में अपना पूरा अनुभव बताया है.
http://kanti.in/issues/2012/july2012/Page-20.asp

previous
12345678910111213141516171819202122232425
26272829303132333435363738394041424344454647484950
next
page-20
previous
12345678910111213141516171819202122232425
26272829303132333435363738394041424344454647484950
next

1 comment:

  1. बहुत बढ़िया खबर है.

    ReplyDelete